Category: विज्ञान

  • इरेप्सिन

    इरेप्सिन एक प्रकार का एंजाइम है। इरेप्सिन का स्राव आंत्र से होता है। यह प्रोटीन को अमीनो अम्ल में परिवर्तित कर देता है। इसका कार्य स्थल छोटी आंत है।

    और पढ़ें…

  • टायलिन

    टायलिन (एमिलेज) एक प्रकार का एंजाइम है। टायलिन (एमिलेज) का स्राव लार ग्रंथि से होता है। यह पाॅलिसैकेराइड को छोटे पाॅलिसैकेराइड एवं माल्टोस में परिवर्तित कर देता है। इसका कार्य स्थल मुख गुहा है।

    और पढ़ें…

  • रेनिन

    रेनिन एक प्रकार का एंजाइम है। रेनिन का स्राव आमाशय में उपस्थित एक ग्रंथि से होता है। यह केसीन को पैराकेसीन में परिवर्तित कर देता है। इसका कार्य स्थल आमाशय है।

    और पढ़ें…

  • पेप्सिन

    पेप्सिन एक प्रकार का एंजाइम है। पेप्सिन का स्राव आमाशय में उपस्थित एक ग्रंथि से होता है। यह प्रोटीन को पेप्टाइड में परिवर्तित कर देता है। इसका कार्य स्थल आमाशय है।

    और पढ़ें…

  • माल्टेज

    माल्टेज एक प्रकार का एंजाइम है। माल्टेज का स्राव आंत्र से होता है। यह माल्टोस को ग्लूकोज में परिवर्तित कर देता है। इसका कार्य स्थल छोटी आंत है।

    और पढ़ें…

  • लाइपेज

    लाइपेज एक प्रकार का एंजाइम है। लाइपेज का स्राव अग्न्याशय ग्रंथि से होता है। यह वसा को मोनोग्लिसराइड एवं वसीय अम्ल में परिवर्तित कर देता है। इसका कार्य स्थल छोटी आंत है।

    और पढ़ें…

  • विस्थापन धारा

    जब हम किसी संधारित्र को बैटरी से जोड़ते है तो उसमें विद्युत धारा प्रवाहित होती है। संधारित्र के बाहर धारा, चालन धारा के रूप में प्रवाहित होती है जबकि संधारित्र के अंदर चालन धारा का मान शून्य होता है। संधारित्र के अंदर धारा परिवर्तनशील विद्युत क्षेत्र के कारण प्रवाहित होती है जिसे हम विस्थापन धारा […]

    और पढ़ें…

  • खनिज

    पृथ्वी की भूपर्पटी में प्राकृतिक रूप से पाए जाने वाले तत्वों या यौगिकों को खनिज कहते हैं।

    और पढ़ें…

  • ज्वारीय ऊर्जा

    घूर्णन गति करती पृथ्वी पर मुख्य रूप से चंद्रमा के गुरुत्वीय खिंचाव के कारण सागरों में जल का स्तर चढ़ता व गिरता है। ज्वार-भाटे में जल के स्तर के चढ़ने तथा गिरने से ज्वारीय ऊर्जा प्राप्त होती है। ज्वारीय ऊर्जा का दोहन सागर के किसी संकीर्ण क्षेत्र पर बांध का निर्माण करके किया जाता है। […]

    और पढ़ें…

  • औषधीय पौधे

    ऐसे पौधे जिनका उपयोग विभिन्न रोगों के उपचार में किया जाता है, औषधीय पौधे कहलाते हैं। नीम (Azadirachta indica) इसकी ऊंचाई 20 मीटर तक होती है। इसकी एक टहनी में करीब 9-12 पत्ते पाए जाते है। इसके फूल सफ़ेद रंग के होते हैं और इसकी पत्तियां हरी होती है जो पकने पर हल्की पीली–हरी हो […]

    और पढ़ें…