Author name: Admin

कम्प्यूटर वायरस क्या है

कम्प्यूटर वायरस एक ऐसा प्रोग्राम है जो अपने आप को दोहरा सकता है और एक कंप्यूटर से दूसरे कंप्यूटर में फैल सकता है। यह आमतौर पर एक संक्रमित फ़ाइल या ईमेल संदेश के माध्यम से फैलता है। एक बार जब वायरस एक कंप्यूटर में प्रवेश कर जाता है, तो यह उपयोगकर्ता की अनुमति के बिना …

कम्प्यूटर वायरस क्या है Read More »

ब्लैक होल क्या है? इसका निर्माण कैसे हुआ?

कृष्ण विवर या ब्लैक होल (Black Hole) अंतरिक्ष में ऐसा क्षेत्र है, जिसके द्रव्यमान का घनत्व इतना बढ़ जाता है कि आस-पास का कोई भी पिंड उसके गुरुत्वाकर्षण से बच नहीं पाता, प्रकाश भी नहीं और इसलिए वह दिखाई नहीं देता। कृष्ण विवर के चारों ओर घटना क्षितिज नामक एक सीमा होती है जिसमें वस्तुएँ …

ब्लैक होल क्या है? इसका निर्माण कैसे हुआ? Read More »

ऊर्जा क्या है? ऊर्जा संरक्षण का नियम क्या है?

किसी पिंड के कार्य (work) करने की क्षमता को ऊर्जा (energy) कहते है।ऊर्जा (Energy) कई रुपों में मिलती है जैसे प्रकाश ऊर्जा , विद्युत ऊर्जा, रासायनिक ऊर्जा, यांत्रिक ऊर्जा इत्यादि।।ऊर्जा (Energy) को न तो उत्पन्न किया जा सकता है और न ही नष्ट किया जा सकता है। ऊर्जा को हम केवल एक रुप से दूसरे …

ऊर्जा क्या है? ऊर्जा संरक्षण का नियम क्या है? Read More »

परावैद्युत पदार्थ क्या है?

कुचालक या अचालक ( Insulator ) पदार्थों को dielectric materials या परावैद्युत पदार्थ कहते है। ये पदार्थ अपने में से विद्युत धारा के प्रवाह का विरोध करते है। Dielectric materials का व्यवहार electric field की उपस्थित में परिवर्तित हो जाता है। Dielectric materials में मुक्त आवेश नहीं होते है, क्योंकि इनमें उपस्थित सभी इलेक्ट्रॅान बद्ध …

परावैद्युत पदार्थ क्या है? Read More »

ब्रैग समीकरण

माना किसी जालक के बराबर दूरी पर स्थित तलों, जिनके बीच की दूरी d है, पर X-किरणों का एकवर्णी समांतर प्रकाश पुँज जालक पर θ कोण बनाता हुआ आपतित होता है। इस स्थिति में d, θ एवं λ में निम्न संबंध होता है- 2d sinθ = nλ यह संबंध ब्रैग समीकरण कहलाता है।

गति के तीन समीकरण

एकसमान त्वरित गति के तीन मुख्य समीकरण निम्न है- एक समान त्वरित गति का प्रथम समीकरण v = u + at एक समान त्वरित गति का द्वितीय समीकरण s = ut + ½ at2 एक समान त्वरित गति का तृतीय समीकरण v2 = u2 + 2as जहां, s = विस्थापन। v = वस्तु का अंतिम …

गति के तीन समीकरण Read More »

द्विविमीय गति

द्विविमीय गति या समतल में होने वाली गति में कण एक समतल पर किसी भी दिशा में गतिमान हो सकता है। द्विविमीय गति में कण के गति का पथ निर्देशांक निकाय के दो अक्षों (x,y या y,z या z,x) पर निर्भर करता है। द्विविमीय गति के उदाहरण समतल सड़क पर कार की गति, वर्तुल गति, …

द्विविमीय गति Read More »

सरल रेखीय गति

सरल रेखीय या एक विमीय गति (One Dimensional Motion) गति में कण एक सीधी रेखा में गतिमान होता है। सरल रेखीय गति में कण की गति का पथ निर्देशांक-निकाय के एक अक्ष (x, y, z में से एक अक्ष ) के अनुदिश मानते है। कण की प्रारंभिक स्थिति को हम x-अक्ष के मूल बिन्दु O …

सरल रेखीय गति Read More »

आवेग | Impulse in hindi

बल तथा समय के गुणनफल को आवेग (Impulse)कहते हैं। आवेग का सूत्र है, आवेग = औसत बल × समय I = Fav × t = p2 – p1

संवेग | Momentum in hindi

यदि द्रव्यमान m का पिंड वेग v से गतिशील है तो इसके संवेग (momentum) p निम्नलिखित सूत्र से दिया जाता है, p = mv संवेग एक सदिश राशि है। संवेग का मात्रक किग्रा-मीटर/सेकण्ड या न्यटन/सेकण्ड है | किसी पिंड पर लगने वाला बल संवेग (momentum) परिवर्तन तथा इसमें लगने वाले समय पर निर्भर करता है। …

संवेग | Momentum in hindi Read More »

विद्युत ऊर्जा

विद्युत ऊर्जा, विद्युत शक्ति (P) व समय (t) के गुणनफल बराबर होती है।अतः विद्युत ऊर्जा = Ptविद्युत ऊर्जा का मात्रक वाट-सेकण्ड या जूल होता है।विद्युत ऊर्जा का व्यापारिक मात्रक किलोवाट घंटा (kwh) है। जिसे सामान्यतया यूनिट कहते है।1 kwh = 3.6×106

विद्युत शक्ति

किसी विद्युत परिपथ में विद्युत धारा प्रवाहित करने पर धारा के प्रवाह के कारण किये गये कार्य की दर को विद्युत शक्ति कहते हैं। अतः विद्युत शक्ति = किया गया कार्य/समय $$P = \frac{W}{\Delta t}$$ यदि किसी विद्युत परिपथ में विद्युत धारा I समय Δt तक प्रवाहित हो रही है तो आवेश q को विभवान्तर …

विद्युत शक्ति Read More »

आवर्ती गति

जब कोई वस्तु एक निश्चित समयान्तर से एक निश्चित पथ को बार- बार दोहराती है तो वस्तु की इस दोहरायी जाने वाली गति को आवर्ती गति (Periodic Motion) कहते हैं। अर्थात कोई गति जो निश्चित अंतराल के बाद पुनरावृति करती है, आवर्ती गति कहलाती है। आवर्त गति का एक पूर्ण चक्र पूरा करने में लगा …

आवर्ती गति Read More »

अम्ल वर्षा क्या है? Acid rain in hindi

अम्ल वर्षा (acid rain) का वास्तविक अर्थ उस वर्षा, हिम, ओला और कुहरा से है जिसमें कार्बन डाइ ऑक्साइड (CO2) के अतिरिक्त सल्फर डाइऑक्साइड (SO2) तथा नाइट्रोजन के ऑक्साइड (NO) घुले हों, जिनसे तनु सल्फ्यूरिक अम्ल (H2SO4) तथा नाइट्रिक अम्ल (HNO3) बनते हैं। किन्तु व्यापक दृष्टि से पौधों तथा इमारतों द्वारा SO2 तथा NO का …

अम्ल वर्षा क्या है? Acid rain in hindi Read More »

गोल्डफिश का साइंटिफिक नाम क्या है?

गोल्डफिश (Gold Fish) का साइंटिफिक नाम कैरासियस ऑराटस (Carassius Auratus) है। गोल्डफिश (Gold Fish) या सुनहरी मछली कार्प परिवार की मछली है। यह पालतू बनाए जाने वाली सबसे पहली मछली है और सबसे अधिक रखे जाने वाली एक्वैरियम मछली है। यह पूर्वी एशिया की मूल निवासी है और जिसकी पहचान यूरोप में 17वीं सदी के …

गोल्डफिश का साइंटिफिक नाम क्या है? Read More »

दोलन गति

यदि कोई वस्तु एक निश्चित बिन्दु के इधर-उधर निश्चित समय में बार- बार अपनी गति को दोहराती है तो वस्तु की गति को दोलन गति (Oscillatory Motion) कहते है। दोलन गति के उदाहरण

प्रकाश वर्ष किसका मात्रक है?

प्रकाश वर्ष (lightyear), जो प्रव (ly) द्वारा चिन्हित किया जाता है, लम्बाई की एक मापन इकाई है। यह लगभग 95 खरब (9.5 ट्रिलियन) किलोमीटर की होती है। अन्तर्राष्ट्रीय खगोलीय संघ के अनुसार, एक प्रकाश वर्ष वह दूरी है जो प्रकाश अपने निर्वात में एक वर्ष में पूरा कर लेता है। यह इकाई मुख्यत: लम्बी दूरियों …

प्रकाश वर्ष किसका मात्रक है? Read More »

अतिचालकता

अतिचालकता की खोज एक डच भौतिकशास्त्री कैमरलिंग ओनिस द्वारा 1911 में की गयी। अत्यन्त निम्न ताप पर कुछ पदार्थों का विद्युत प्रतिरोध शून्य हो जाता है। इन्हें ‘अतिचालक’ (Super-conductor) कहते हैं और इस गुण को ‘अतिचालकता’ कहते हैं। 4.2 k (अर्थात् – 268.8°C) पर पारा अतिचालक बन जाता है, अर्थात् उसका विद्युत प्रतिरोध शून्य हो …

अतिचालकता Read More »

भौतिक राशियों के विमीय सूत्र

किसी भौतिक राशि के विमीय सूत्र एवं विमीय समीकरण को निम्नलिखित प्रकार से परिभाषित कर सकते है- विमीय सूत्र (Dimensional formula) ऐसा व्यंजक जो यह प्रदर्शित करता है कि किसी भौतिक राशि में किस मूल राशि की कितनी विमाएं है वह उस भौतिक राशि का विमीय सूत्र कहलाता है। विमीय सूत्र कैसे ज्ञात करते हैं? …

भौतिक राशियों के विमीय सूत्र Read More »

भौतिक विज्ञान

भौतिक विज्ञान का अर्थ है – प्रकृति का अध्ययन। प्रकृति में सम्पूर्ण ब्रह्मांड (universe) को सम्मिलित किया जा सकता है। प्रकृति के मूलभूत नियमों (fundamental laws) एवं परिघटनाओं का अध्ययन प्राकृतिक विज्ञान की जिस शाखा के अंर्तगत किया जाता है, उसे भौतिक विज्ञान (physics) कहा जाता है। अत: प्रकृति का अध्ययन (study of nature) ही भौतिक …

भौतिक विज्ञान Read More »

B.Sc. Physics Notes Download

B.Sc. First year physics notes Mechanics Optics Electromagnetics B.Sc. second year physics notes Stastical and thermal physics Quantum mechanics Electronics B.Sc. Final year physics notes Solid state physics Nuclear Physics Electrodynamics

जैवमंडल आरक्षित क्षेत्र | Biosphere reserve in hindi

जैवमंडल आरक्षित क्षेत्र (Biosphere reserve) विशेष प्रकार के भौमिक और तटीय परिस्थितिक तंत्र हैं, जिन्हें यूनेस्को (UNESCO) के मानव और जैवमंडल प्रोग्राम (MAB) के अंतर्गत मान्यता प्राप्त है। जैवमंडल आरक्षित क्षेत्र (निचय) राष्ट्रीय सरकारों द्वारा नामित किए जाते हैं और उन राज्यों के संप्रभु अधिकार क्षेत्र में रहते हैं जहां वे स्थित हैं। जैवमंडल आरक्षित …

जैवमंडल आरक्षित क्षेत्र | Biosphere reserve in hindi Read More »

ओजोन परत

ओजोन परत पृथ्वी के समताप मंडल में ओजोन गैस का आवरण है, जो कि सूर्य से आने वाली हानिकारक पराबैंगनी किरणों को अवशोषित करती है। यह पराबैंगनी विकिरण जीवों के लिये अत्यंत हानिकारक है।वायुमंडल के उच्चतर स्तर पर पराबैंगनी विकिरण के प्रभाव से ऑक्सीजन अणुओं से ओजोन बनती है। उच्च ऊर्जा वाले पराबैंगनी विकिरण ऑक्सीजन …

ओजोन परत Read More »

जल प्रदूषण | Jal pradushan

जल में अवांछित पदार्थों जैसे विषैले रसायन, रेडियोऐक्टिव पदार्थ, कचरा, प्लास्टिक इत्यादि मिलने से उसके रासायनिक एवं भौतिक गुणों में परिवर्तन आ जाते है एवं उसकी गुणवत्ता में ह्रास हो जाता है। इसे जल प्रदूषण कहते है। जल प्रदूषण के कारण तालाबों, झीलों व नदियों का जल दूषित हो जाता है। दूषित जल से पर्यावरण …

जल प्रदूषण | Jal pradushan Read More »

पर्यावरण प्रदूषण | Paryavaran pradushan

पर्यावरण में अवांछित एवं अनुपयोगी पदार्थों के मिलने या उपयोगी तत्वों की कमी से इसकी गुणवत्ता में ह्रास हो जाता है। यही पर्यावरण प्रदूषण कहलाता है।पर्यावरण प्रदूषण के फलस्वरूप वायु, जल, मिट्टी के भौतिक, रासायनिक तथा जैविक गुणों में परिवर्तन हो जाते है। यह परिवर्तन पारिस्थितिक तंत्र एवं सभी जीव धारियों के लिये हानिकारक है। …

पर्यावरण प्रदूषण | Paryavaran pradushan Read More »

भारत के जैवमंडल आरक्षित क्षेत्र

भारत के जैवमंडल आरक्षित क्षेत्रों की सूची भारत सरकार ने देश में 18 जैवमंडल आरक्षित क्षेत्र स्थापित किए। जैवमंडल आरक्षित क्षेत्र का नाम पदनाम की दिनांक राज्य (राज्यों)/केंद्र शासित प्रदेश में स्थान नीलगिरी (Nilgiri) 01.08.1986 तमिलनाडु, केरल और कर्नाटक में वायनाड, नागरहोल, बांदीपुर और मदुमलाई, निलम्पुर, साइलेंट वैली और शिरुवानी पहाड़ियों का क्षेत्र। नंदा देवी …

भारत के जैवमंडल आरक्षित क्षेत्र Read More »

कोशिकांग

कोशिका द्रव्य में पाए जाने वाले मुख्य कोशिकांगों का विवरण निम्नानुसार है: लाइसोसोम इनमें बहुत शक्तिशाली पाचक एन्जाइम होते हैं। जब कोशिका क्षतिग्रस्त या मृत हो जाती है तो लाइसोसोम फट जाते हैं और पाचक एन्जाइम अपनी ही कोशिका को पचा देते हैं इसलिए इसे कोशिका की आत्मघाती थैली भी कहा जाता है। गॉल्जीकॉय ये …

कोशिकांग Read More »

जल संग्रहण

पृथ्वी पर उपलब्ध जल का कुछ भाग पौधों, जन्तुओं तथा मनुष्य द्वारा प्रयुक्त होता है। जल का अधिकांश भाग समुद्री जल के रूप में होता है। जिसका सीधा उपयोग करना संभव नहीं है। वर्षा की कमी से भौम (भूमि) जल का स्तर अत्यधिक नीचे चला जाता है। जनसंख्या वृद्धि, वर्षा का असंतुलन, उद्योगों में अत्यधिक …

जल संग्रहण Read More »

जल चक्र

जल स्रोत से जल वाष्पीकरण द्वारा वाष्प के रूप में ऊपर उठता है। जल वाष्प के संघनन से बादल बनते हैं तथा वर्षण द्वारा जल वर्षा के रूप में पुनः जल स्रोतों में आता है। इस चक्र को जल चक्र कहते है।

शैवाल ब्लूम

वाहित मल, कृषि में प्रयुक्त उर्वरक एवं अन्य अपशिष्ट पदार्थों में नाइट्रेट एवं फास्फेट युक्त रसायन प्रचुर मात्रा में उपस्थित होते है। ये रसायन युक्त अपशिष्ट जलाशयों व तालाबों में मिल जाते है तो ये शैवालों के लिए पोषक का कार्य करते है। जिससे इन जलाशयों में शैवालों की वृद्धि तेजी से होती है। शैवालों …

शैवाल ब्लूम Read More »

खनिज

पृथ्वी की भूपर्पटी में प्राकृतिक रूप से पाए जाने वाले तत्वों या यौगिकों को खनिज कहते हैं।

औषधीय पौधे | Medicinal plants in hindi

ऐसे पौधे जिनका उपयोग विभिन्न रोगों के उपचार में किया जाता है, औषधीय पौधे कहलाते हैं। नीम (Azadirachta indica) इसकी ऊंचाई 20 मीटर तक होती है। इसकी एक टहनी में करीब 9-12 पत्ते पाए जाते है। इसके फूल सफ़ेद रंग के होते हैं और इसकी पत्तियां हरी होती है जो पकने पर हल्की पीली–हरी हो …

औषधीय पौधे | Medicinal plants in hindi Read More »

मावठ

भारत में शीत ऋतु में होने वाली वर्षा को मावठ या पश्चिमी विक्षोभ कहा जाता है। ये चक्रवात भूमध्य सागर से आकर राजस्थान सहित उत्तरी-पश्चिमी भारत में वर्षा करते हैं। मावठ रबी की फ़सल के लिए लाभदायक होती है। इस वर्षा से गेहूॅं की फसल को विशेष लाभ मिलता है।

ग्रीन हाउस प्रभाव | Green house effect in hindi

शीशे (glass) द्वारा ऊष्मा को रोक लेने के कारण शीशे के अंदर का तापमान बाहर के तापमान से काफ़ी अधिक हो जाता है। ठंडे मौसमों में ऊष्णकटिबंधीय पौधों को गर्म रखने के लिए आवरण बनाने की प्रक्रिया में इस अवधारणा का उपयोग किया गया है। इस प्रकार के आवरण को ग्रीन हाउस कहते हैं। वायुमंडलीय …

ग्रीन हाउस प्रभाव | Green house effect in hindi Read More »

कोशिका एवं कोशिकांग

रॉबर्ट हुक ने सन् 1665 में सर्वप्रथम कोशिका की खोज की थी। उन्होंने स्वयं द्वारा निर्मित सूक्ष्मदर्शी के नीचे कॉर्क की पतली परत को रखकर देखा। कॉर्क की पतली परत में उन्हें मधुमक्खी के छत्ते के समान कोष्ठ दिखाई दिए। इन कोष्ठों को रॉबर्ट हुक ने कोशिका नाम दिया कोशिकीय संगठन के आधार पर जीव …

कोशिका एवं कोशिकांग Read More »

सूक्ष्मजीव

मिट्टी एवं पानी में अनेक सूक्ष्म जीव उपस्थित रहते हैं। सूक्ष्मजीव इतने छोटे होते हैं कि उन्हें बिना यंत्र की सहायता से नहीं देखा जा सकता। इनमें से कुछ जैसे कि ब्रेड पर उगने वाले कवक, को आवर्धकलेंस की सहायता से देखा जा सकता है जबकि अन्य बिना सूक्ष्मदर्शी की सहायता से दिखाई नहीं देते। …

सूक्ष्मजीव Read More »

वन्यजीव अभयारण्य

वन्यजीव अभ्यारण्य एक ऐसी जगह होती है जहां जानवरों को चराने या लकड़ी आदि इकट्ठा करने की अनुमति तो होती है , परंतु कुछ अपवादों को छोड़कर मनुष्यों का बसना प्रतिबंधित होता है । वन्यजीव अभयारण्यों का गठन किसी एक प्रजाति अथवा कुछ विशिष्ट प्रजातियों के संरक्षण के लिये किया जाता है अर्थात् ये विशिष्ट …

वन्यजीव अभयारण्य Read More »

हाइड्रोकार्बन

हाइड्रोकार्बन कार्बनिक यौगिक होते हैं जो हाइड्रोजन और कार्बन के परमाणुओं से मिलकर बने होते हैं। हाइड्रोकार्बन प्रत्यक्ष रूप से कार्बोहाइड्रेट, प्रोटीन, न्यूक्लिक अम्ल इत्यादि के रूप में जीवन के आधार हैं। अधिकतर औषधियाँ, कृषि रसायन, ईंधन तथा प्लास्टिक भी हाइड्रोजन व कार्बन से बने यौगिक होते हैं। हाइड्रोकार्बन मुख्यत: दो प्रकार के होते हैं-संतृप्त …

हाइड्रोकार्बन Read More »

अरावली पर्वतमाला

अरावली भारत के पश्चिमी भाग राजस्थान में स्थित एक पर्वतमाला है। जिसे राजस्थान में आडावाला पर्वत के नाम से भी जाना जाता है, भारत की भौगोलिक संरचना में अरावली प्राचीनतम पर्वत श्रेणी है,जो गोडवाना लेंड का अस्तित्व है। यह संसार की सबसे प्राचीन पर्वत श्रृंखला है जो राजस्थान को उत्तर से दक्षिण दो भागों में …

अरावली पर्वतमाला Read More »

भूगोल

भूगोल शब्द का अंग्रेजी समानार्थी शब्द Geography है। Geography शब्द लेटिन भाषा के दो शब्दों geo एवं grapho से मिलकर बना है, जिसमें geo का अर्थ पृथ्वी एवं grapho का अर्थ अध्ययन करना।geography पृथ्वी के बाह्य स्वरूप एवं धरातल, इसके भौतिक विभाग, जलवायु, पर्यावरण, जनसंख्या वितरण आदि के संबंध में अध्ययन करने का विज्ञान है। …

भूगोल Read More »

पर्यावरण क्या है? पर्यावरण के घटक, क्षेत्र एवं महत्व

प्रकृति में उपस्थित जैविक घटक जैसे मनुष्य, पौधे, प्राणी, सूक्ष्म जीव तथा अजैविक घटक जैसे वायु, जल, मिट्टी, प्रकाश आदि मिलकर पर्यावरण का निर्माण करते है। पर्यावरण का अर्थ पर्यावरण के लिये अंग्रेजी में समानार्थी शब्द Environment है। Environment शब्द फ्रेंच भाषा के शब्द ‘Environ’ से बना है, जिसका अर्थ है “surroundings” अर्थात् हमारे आस-पास …

पर्यावरण क्या है? पर्यावरण के घटक, क्षेत्र एवं महत्व Read More »

वायु

वायु विभिन्न गैसों का मिश्रण है। इसमें लगभग 78% नाइट्रोजन, 20.9% ऑक्सीजन, 0.93% ऑर्गन, 0.03% कार्बन डाइऑक्साइड व शेष भाग में नियोन, हीलियम, क्रिप्टोन, मेथेन, हाइड्रोजन, जलवाष्प आदि गैसें होती है।

जल | water in hindi

जल का अणु सूत्र H2O है। पृथ्वी तल पर पाए जाने वाले पदार्थों में सर्वाधिक बाहुल्य जल का है। पृथ्वी तल का 70 प्रतिशत भाग जल में डूबा रहता है। जल पृथ्वी पर प्राकृतिक रूप से पाया जाने वाला एकमात्र अकार्बनिक तरल पदार्थ है। पृथ्वी की सतह पर पाया जाने वाले अधिकतर जल समुद्र और …

जल | water in hindi Read More »

पादप

पादप जैविक पदार्थों का निर्माण करते है जिनका उपभोग पादप स्वयं करते है। इसके अलावा मानव सहित अन्य जंतु तथा सूक्ष्मजीव प्रत्यक्ष तथा अप्रत्यक्ष रूप से इन्हीं पादपों पर निर्भर करते है। पादप पर्यावरण के विभिन्न संघटकों में जैविक पदार्थों तथा पोषक तत्वों के गमन को संभव बनाते है। हरे पादप अपना आहार स्वयं तैयार …

पादप Read More »

महासागर

विश्व में पाँच महासागर है, जो कि निम्नलिखित हैं : प्रशान्त महासागर (Pacific Ocean) अटलांटिक महासागर या अंध महासागर( Atlantic Ocean) हिन्द महासागर ( Indian Ocean ) आर्कटिक महासागर ( Arctic Ocean ) अंटार्कटिक महासागर या दक्षिण महासागर ( Southern Ocean)

सूर्य

सूर्य सौरमंडल का एकमात्र तारा है। यह पृथ्वी के सबसे निकटतम तारा है। सूर्य, जलती हुई गैसों का एक विराट पिंड है। इसकी सतह सदैव अशांत एवं अस्थिर रहती है। सौरमंडल में स्थित सभी पिंडों में से सूर्य में सबसे अधिक हाइड्रोजन एवं हीलियम है । सौरमंडल के लिए सूर्य प्रकाश एवं उष्मा का एकमात्र …

सूर्य Read More »

कीटभक्षी पादप | keet bakshi paudha

वे पादप जो अपना भोजन कीटों से प्राप्त करते है कीटभक्षी पादप (पौधे) कहलाते है। इन्हें मांसाहारी पादप भी कहते है। इन पादपों की रचना इस प्रकार होती है कि कीट इनमें फंस जाते है। इन पौधों में विशेष प्रकार के पाचक रस होते है जो इन कीटों को पचा डालते है। ये पादप दलदली …

कीटभक्षी पादप | keet bakshi paudha Read More »

प्राकृतिक रेशे

कपास, ऊन, सिल्क आदि प्राकृतिक रेशे है। प्राकृतिक रेशे दो प्रकार के होते हैं- पादप रेशे एवं जांतव रेशे। पादप रेशे वे रेशे जो पादपों से प्राप्त होते हैं, पादप रेशे कहलाते हैं। पादप रेशों के उदाहरण रुई, जूट, मूंज आदि पादप रेशों के उदाहरण है। रुई रुई एक पादप रेशा है। रुई कपास पादप …

प्राकृतिक रेशे Read More »

जीव विज्ञान

जीव विज्ञान का जनक अरस्तु है। जीव विज्ञान का अंग्रेजी समानार्थी शब्द biology है। Biology शब्द का सर्वप्रथम प्रयोग लैमार्क एवं ट्रैविनेरस द्वारा किया गया। जीव विज्ञान की मुख्यत: दो शाखाएं है- वनस्पति विज्ञान एवं जंतु विज्ञान। थियोफ्रेस्टस को वनस्पति विज्ञान का पिता कहा जाता है। उन्होंने अपनी पुस्तक “हिस्टोरिया प्लांटेरम” में 550 से ज्यादा …

जीव विज्ञान Read More »

तारामंडल

अर्सामेजर तारामंडल या सप्तर्षि तारामंडल अर्सामेजर तारामंडल या सप्तर्षि तारामंडल गर्मियों में रात्रि के प्रथम प्रहर में दिखाई देता है। यह तारामंडल सात तारों का समूह है। यह तारामंडल बड़ी कलछी अथवा प्रश्र चिन्ह जैसा प्रतीत होता है। भारत में इन सात तारों के समूह को सप्तर्षि मंडल के नाम से जाना जाता है। प्राचीन …

तारामंडल Read More »

देशांतर रेखाएं

Glob पर उत्तर से दक्षिण की ओर खींची गयी काल्पनिक रेखाएं जो पृथ्वी के धरातल पर किन्हीं दो स्थानों के बीच अंशात्मक दूरी को प्रदर्शित करती है, देशांतर रेखाएं कहलाती है। वृत में 360 degree होते है। उसी प्रकार glob पर 360 degree देशांतर के अंश होते है इन्हें रेखांश भी कहते है। पृथ्वी ( …

देशांतर रेखाएं Read More »

मौसम

मौसम से तात्पर्य है किसी स्थान विशेष की किसी विशिष्ट समय पर वातावरणीय परिस्थितियां किस प्रकार की है। किसी स्थान का मौसम उस स्थान के ताप, दाब, बादल, नमी, वर्षा इत्यादि पर निर्भर करता है।

भूमध्य रेखा

ग्लोब ( glob ) के बीचों-बीच में खींची गई 0० अक्षांश रेखा को भूमध्य रेखा ( equator line ) कहा जाता है। इसे विषुवत्त रेखा भी कहते है। भूमध्य रेखा ( equator line ) पर साल भर दिन रात बराबर होते है इसलिए इसे विषुवत्त रेखा कहते है। यह रेखा पूर्ण ग्लोब ( glob ) …

भूमध्य रेखा Read More »

अक्षांश रेखाएं

ग्लोब ( glob ) पर पूर्व से पश्चिम की ओर खींची काल्पनिक रेखाएं, अक्षांश रेखाएं कहलाती है। अक्षांश रेखाएं ग्लोब पर आड़ी रेखाएं होती है। पृथ्वी पर कुल 179 अक्षांश रेखाएं है, जिनमें से एक अक्षांश रेखा रेखा 00 अक्षांश पर स्थित होती है, जिसे भूमध्य रेखा कहते है। अक्षांश रेखाएं भूमध्य रेखा के समांतर …

अक्षांश रेखाएं Read More »

Scroll to Top