कार्य ऊर्जा प्रमेय


किसी पिंड पर आरोपित परिणामी बल द्वारा किया गया कार्य उस पिंड की गतिज ऊर्जा में परिवर्तन के तुल्य होता है।

Kf – Ki = W

जहां Ki तथा Kf पिंड की आरंभिक एवं अंतिम गतिज ऊर्जा है।

इसे कार्य ऊर्जा प्रमेय (Work energy theorem) कहते है।

कार्य ऊर्जा प्रमेय (Work energy theorem) के अनुसार कार्य एवं गतिज ऊर्जा तुल्य राशियां है। कार्य ऊर्जा प्रमेय न्यूटन के द्वितीय नियम (Newton’s second law of motion) का समाकल रुप है।

इन्हें भी देखें

श्रेणी :