जब कोई वस्तु एक निश्चित समयान्तर से एक निश्चित पथ को
बार- बार दोहराती है तो वस्तु की इस दोहरायी जाने वाली गति को आवर्ती गति (Periodic Motion) कहते हैं। अर्थात कोई गति जो निश्चित अंतराल के बाद पुनरावृति करती है, आवर्ती गति कहलाती है।
आवर्त गति का एक पूर्ण चक्र पूरा करने में लगा समय आवर्तकाल कहलाता है।


आवर्ती गति के उदाहरण

  • सूर्य के चारों ओर पृथ्वी की परिक्रमण गति
  • पृथ्वी की अपनी धुरी के परित: घूर्णन गति
  • सरल लोलक की गति
  • झूला झूलते हुए बालक की आगे-पीछे की गति
  • कीट का किसी रैम्प पर चढ़ना व गिरना